क्यों बढ़ रही हैं सोने की कीमतें? - Indiagold | Best place to buy gold online
My Account

क्यों बढ़ रही हैं सोने की कीमतें?

ऐसा क्या है जो सोने की छठा कभी धीमी नहीं होती? हर व्यक्ति इसे पाकर खुश होता है, दुनिया और दुनियादारी में इसकी चमक हर किसी का दिल जीत लेती है और जब पूरी मार्किट कछुए की चाल चल रही होती है तब सोना तेज़ी से आगे बढ़ रहा होता है?

ख़ास तौर पर भारत में, सोना न केवल एक जमा पूँजी या निवेश की तरह देखा जाता है बल्कि इसका हमारे समाज में शादियों, त्योहारों, धार्मिक कार्यों और प्रतिष्ठा के लिए उपयोग भी किया जाता है। यही कारण है की भारत, चीन के बाद सोने का सबसे बड़ा उपभोक्ता है और भारत सरकार सोने के इम्पोर्ट पर करीब 12.5% कस्टम ड्यूटी लगाती है। असल में ये कस्टम ड्यूटी सोने की कीमत निर्धारित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है जिसके बारे में हम नीचे बात करेंगे। मगर पहले ये जानना ज़रूरी है कि पिछले कुछ समय से सोने के साथ चल क्या रहा है।

सोने ने 2010 के बाद से सबसे अच्छा प्रदर्शन 2019 में किया जब साल भर में डॉलर के संदर्भ में सोना 18.4% बढ़ा। इसके साथ-साथ क्योंकि एक डॉलर की रूपए में कीमत बढ़ रही थी तो अगर हम रूपए में सोने की कीमत देखें तो यह आंकड़ा और भी अधिक होगा। तब अमेरिका ने अपने ब्याज दरों को इतना कम करने का फैसला किया कि निवेशकों के लिए अन्य निवेश विकल्पों की तुलना में , सोना और अधिक आकर्षक हो गया। फिर हाल में महामारी के दौरान, बाजार के खराब प्रदर्शन ने वित्तीय निवेशकों को सोने की ओर आकर्षित भी कर दिया।

यहाँ ध्यान देने वाली बात ये है कि अमेरिका जैसे विकसित देशों और भारत जैसी अर्थव्यवस्था वाले देशों के बीच ब्याज दरों में अंतर सोने की कीमतों पर काफी बड़ा प्रभाव डालता है। क्यूंकि भारत एक बढ़ता देश है, यहाँ ब्याज अमेरिका के मुकाबले हमेशा ज़ादा ही होगा – जिसकी वजह से डॉलर की रुपए में कीमत बढ़ेगी ही। अतः सोने की रुपए में कीमत लंबे समय में बढ़ेगी ही चाहे कोई ऐसी परिस्थिति हो जब सोने की कीमत डॉलर में न बढ़े। इसीलिए भारतवासियों के लिए सोना जमा पूँजी इकट्ठा करने का बेहतरीन जरिया रहेगा।

आप सोना खरीदना चाहें तो किसी ऐसे सुनार से सोना ले सकते है जिस पर आपको विश्वास हो या फिर आजकल लोग सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड भी खरीदने लगे हैं। ख़ास तौर पर आजकल इंडियागोल्ड जैसी कुछ मोबाइल ऍप्लिकेशन्स भी है जहाँ ₹1 जितनी कम मात्रा में 24K डिजिटल गोल्ड खरीदा जा सकता है। क्या होता है की जब आप किसी भी मात्रा का सोना इस एंड्राइड एप्लीकेशन पर खरीदते है तो पीछे ऑग्मेंट, जो कि भारत की प्रमुख सोने की रिफाइनरी कंपनियों में मानी जाती है, आपके नाम पर वो सोना एक डिजिटल लॉकर में जमा कर देते है जिसे आप जब चाहे अपने फ़ोन का उपयोग करके बेच सकते है या फिर सोने के सिक्के में बदल सकते हैं।  इस तरीके से आप हर महीने थोड़ा-थोड़ा करके काफी सारा सोना इकट्ठा कर सकते हैं। इससे आप सोने के बढ़ते दामों से भी बच जाते है।

और अगर आपको सोने का सिक्का अपने घर पर होने वाली शादी या अपने बच्चों को आगे देने के लिए सोने के आभूषण ही खरीदने है तो आप इंडियागोल्ड पर आज के दाम पर सोना बुक करके छोटी-छोटी इंस्टॉलमेंट्स में UPI द्वारा इन्हे खरीद सकते हैं।

सच ही कहते हैं, सोना एक अनोखी धातु है। बुरे समय के दौरान, यह जमा पूँजी के लिए एक अद्भुत बचाव का काम करता है और पीढ़ी दर पीढ़ी इसको आगे बढ़ाया जाता है। तभी तो माना जाता है कि लंबे समय में सोना ही वक्त की कसौटी पर खरा उतरता है।  यही कारण है कि सोने को समझना हमारे लिए ज़रूरी है और आशा करते हैं कि इस लेख से आपको इसे समझने में सहायता मिली होगी।

indiagold के बारे में: इंडियागोल्ड जैसी कुछ चुनिंदा मोबाइल ऍप्लिकेशन्स भारत देश में है जहाँ न्यूनतम ₹1 जितनी कम मात्रा में 24 कैरट BIS हॉलमार्क डिजिटल गोल्ड खरीदा जा सकता है, बेचा जा सकता हैं या आप उसमे बचत कर सकते हैं। आप 22/24 कैरट के सोने के सिक्के व आभूषण भी installment में खरीद सकते हैं जिसके लिए आपको चेकआउट के समय 20% मूल्य चुकाना होगा।

शिरोस पर प्रकाशित गया था मूल लेख

Share on facebook
Share on linkedin
Share on twitter

OTHER ARTICLES